तीन कारण क्यों हार्दिक पंड्या का गुजरात छोड़कर मुंबई इंडियंस लौटना उनके करियर की महाभूल

52
0

नई दिल्ली: टीम इंडिया के दो प्रतिभाशाली सितारों में शायद आईपीएल की दो अहम फ्रैंचाइजियां अपना भविष्य देख रही हैं। युवा सनसनी शुभमन गिल पर दांव खेलकर गुजरात टाइटंस लीग में अगले कुछ साल के लिए आश्वस्त होना चाहती है। गिल की बारी अब बतौर लीडर काबिलियत साबित करने की है। दूसरी ओर हार्दिक न सिर्फ विस्फोटक बैटिंग ऑलराउंडर के तौर पर जाने जाते हैं, बल्कि अपनी अगुवाई में टाइटंस को लगातार विजेता और उपविजेता बना कप्तान के तौर पर भी अपना लोहा मनवा चुके हैं। फिलहाल रोहित शर्मा के कुशल हाथों में मुंबई की बागडोर है, लेकिन इस फ्रैंचाइजी के ऑनर शायद हार्दिक में उनका उत्तराधिकारी तलाश रहे हों! गिल को भी भविष्य में टीम इंडिया की कप्तानी का दावा ठोकने के लिए टाइटंस के लीडर के तौर पर बेस्ट देना होगा। इस आर्टिकल में हम बताएंगे कि क्यों गुजरात टाइटंस से मुंबई इंडियंस दोबारा लौटना हार्दिक पंड्या के लिए गलत कदम होगा।

कप्तानी का क्या सीन है?
अगर मुंबई इंडियंस आकर हार्दिक पंड्या, रोहित शर्मा की कप्तानी में खेलना स्वीकार करते हैं तो न सिर्फ उनकी ब्रांड वैल्यू को बड़ा धक्का लगेगा बल्कि करियर में भी काफी पिछड़ जाएंगे रोहित-सूर्या-बुमराह जैसे बड़े स्टार्स के बीच में उन्हें उतना लाइम लाइट नहीं मिलेगा, जितना बतौर कप्तान गुजरात में मिलता है। बीसीसीआई को हार्दिक में भविष्य का फुल टाइम कप्तान भी दिखता है, ऐसे में अपनी कप्तानी गंवाकर वह श्रेयस अय्यर, शुभमन गिल, ऋषभ पंत, रुतुराज गायकवाड़ जैसे प्रतिद्वंद्वियों से भी पिछड़ जाएंगे।

आखिर गुजरात छोड़ने की वजह क्या है?

दो सफल सीजन के बावजूद गुजरात और हार्दिक का एक-दूसरे से मोह भंग क्यों हो गया, हर कोई इसके बारे में जानना चाहता है। हार्दिक पंड्या-आशीष नेहरा के बीच कोच-कप्तान वाली बढ़िया बॉन्डिंग हो चुकी थी। दोनों एक-दूसरे के गेम को कॉम्प्लिमेंट करते थे। फ्रैंचाइजी ने हार्दिक को फ्री हैंड दे रखा था। टीम मैनेजमेंट में कोई बाहरी हस्तक्षेप भी नहीं था। ये टीम का अच्छा माहौल ही था कि डेब्यू सीजन में ही चैंपियन और अगले साल फाइनलिस्ट रही। ऐसे में अपने सफल कप्तान को रीलिज कर देने की बात समझ से परे है। अगर इसके पीछे सिर्फ पैसा और ब्रॉड एंडोर्समेंट (जैसा रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है) ही वजह है तो हार्दिक अपने करियर की सबसे बड़ी भूल कर रहे हैं।

हार्दिक का क्या करेगा मुंबई?

आईपीएल के इतिहास में अबतक सिर्फ दो ही कप्तानों का ट्रेड किया गया है। पहले रविचंद्रन अश्विन हैं, जो पंजाब किंग्स की कप्तानी छोड़कर दिल्ली कैपिटल्स से जुड़े थे। दूसरे अजिंक्य रहाणे थे जो राजस्थान रॉयल्स के कप्तान थे और फिर बाद में साल 2020 में दिल्ली कैपिटल्स में ट्रेड हो गए। दोनों की क्या दुर्दशा हुई वो बताने की जरूरत नहीं। दोनों इस फ्रैंचाइजी से बाहर कर दिए गए। अभी अश्विन राजस्थान रॉयल्स में हैं तो रहाणे का आईपीएल करियर चेन्नई सुपरकिंग्स के रहमो-करम से बच गया। 30 साल के हो चुके हार्दिक की फिटनेस जितनी खराब है और वह जितनी जल्दी इंजर्ड हो जाते हैं, लगता नहीं कि मुंबई इंडियंस उन्हें ढोएगी। जिसने इन फॉर्म कायरन पोलार्ड को संन्यास लेकर कोच बना दिया, वह पंड्या के साथ भी ऐसा कर सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here